जिहाल-ए-मस्कीं मकुन || Zihale Masti Mukund Ranjhish Lyrics in Hindi/English ||


Summary : Zihale Masti Mukund Ranjish Song Ghulami Movie से हैं, इस फिल्म में Dharmendra, Mithun Chakraborty, Anita Raj, Reena Roy, Smita Patil & Naseeruddin Shah मुख्य भूमिका मे थे। इस गाने को गाया है Shabbir Kumar & Lata Mangeshkar ने, Music दिया है Laxmikant Pyarelal ने और गाने के बोल लिखे हैं Gulzaar ने। 

Song Title : Zihale Miskin Mukun B Ranjish 
Movie : Ghulami (1985)
Music : Laxmikant Pyarelal
Lyricist : Gulzaar
Starcast : Mithun Chakraborty, Anita Raj
Director : JP Dutta
Label : Gane Sune Ansune

Zihale Masti Mukund Ranjish Song Lyrics in Hindi

ओ.. ओ.. ओ..

जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश
बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है
जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश
बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है

सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है

वो आके पहलू में ऐसे बैठे
वो आके पहलू में ऐसे बैठे
के शाम रंगीन हो गई है
के शाम रंगीन हो गई है
के शाम रंगीन हो गई है

जरा जरा सी खिली तबीयत
जरा सी गमगीन हो गई है
जरा जरा सी खिली तबीयत
जरा सी गमगीन हो गई है

जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश
बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है..

कभी कभी शाम ऐसे ढलती है
के जैसे घूँघट उतर रहा है
उतर रहा है
कभी कभी शाम ऐसे ढलती है
के जैसे घूँघट उतर रहा है

तुम्हारे सीने से उठता धुआँ
हमारे दिल से गुजर रहा है
तुम्हारे सीने से उठता धुआँ
हमारे दिल से गुजर रहा है

जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश
बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है..

ये शर्म है या हया है
क्या है
नजर उठाते ही झुक गयी है
नजर उठाते ही झुक गयी है

तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम
हमारी आँखों में रुक गयी है
तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम
हमारी आँखों में रुक गयी है

जिहाल-ए-मस्कीं मकुन-ब-रन्जिश
बहाल-ए-हिजरा बेचारा दिल है
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है..

Zihale Masti Mukund Ranjish Song Lyrics in English

O.. O.. O..

Zihal-E-Miskin Makun-Ba-Ranjish
Bahal-E-Hizra Bechara Dil Hai
Zihal-E-Miskin Makun-Ba-Ranjish
Bahal-E-Hizra Bechara Dil Hai

Sunai Deti Hai Jiski Dhadkan
Tumhara Dil Ya Hamara Dil Hai
Sunai Deti Hai Jiski Dhadkan
Tumhara Dil Ya Hamara Dil Hai

Woh Aake Pehloo Mein Aise Baithe
Woh Aake Pehloo Mein Aise Baithe
Ke Shaam Rangeen Ho Gayi Hai
Ke Shaam Rangeen Ho Gayi Hai
Ke Shaam Rangeen Ho Gayi Hai

Zara Zara Si Khili Tabiyat 
Zara Si Ghamgeen Ho Gayi Hai
Zara Zara Si Khili Tabiyat 
Zara Si Ghamgeen Ho Gayi Hai

Zihal-E-Miskin Makun-Ba-Ranjish
Bahal-E-Hizra Bechara Dil Hai
Sunai Deti Hai Jiski Dhadkan
Tumhara Dil Ya Hamara Dil Hai..

Kabhi Kabhi Shaam Aise Dhalti Hai
Ke Jaise Ghoonghat Utar Raha Hai
Utar Raha Hai
Kabhi Kabhi Shaam Aise Dhalti Hai
Ke Jaise Ghoonghat Utar Raha Hai

Tumhare Seene Se Uthta Dhuaan
Hamare Dil Se Guzar Raha Hai
Tumhare Seene Se Uthta Dhuaan
Hamare Dil Se Guzar Raha Hai

Zihal-E-Miskin Makun-Ba-Ranjish
Bahal-E-Hizra Bechara Dil Hai
Sunai Deti Hai Jiski Dhadkan
Tumhara Dil Ya Hamara Dil Hai..

Yeh Sharm Hai Yaa Haya Hai 
Kya Hai
Nazar Uthate Hi Jhuk Gayi Hai
Nazar Uthate Hi Jhuk Gayi Hai

Tumhari Palkon Se Girke Shabnam
Hamari Aankhon Mein Rook Gayi Hai
Tumhari Palkon Se Girke Shabnam
Hamari Aankhon Mein Rook Gayi Hai

Zihal-E-Miskin Makun-Ba-Ranjish
Bahal-E-Hizra Bechara Dil Hai
Sunai Deti Hai Jiski Dhadkan
Tumhara Dil Ya Hamara Dil Hai
Sunai Deti Hai Jiski Dhadkan
Tumhara Dil Ya Hamara Dil Hai..


More Related Songs -

Post a Comment

0 Comments